Share this


इस्लामाबाद8 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

लाहौर में इस साल जुलाई में बच्ची को पटेलो की खुराक पिलाती महिला वर्कर। कोरोना महामारी फैलने के बाद यहां पोलिया हटाने के अभियान पर असर पड़ा।- फाइल

  • पाकिस्तान ने देश में पोलियो निवारण से जुड़े काम करने के तरीके बदले, फंडिंग में भी कटौती की
  • हटाए गए पोलियो वर्कर्स में ज्यादातर महिलाएं, ये सभी सिंध और खैबर पख्तूनख्वाह राज्य में सेवाएं दे रही थीं।

पाकिस्तान सरकार ने 2 महीने में 11 हजार पोलियो वर्कर्स को नौकरी से बचाया है। सरकार के इस फैसले से देश में पोलियो निवारण के अभियान को झटका लगा है। 8 महीने में 64 पोलियो केस सामने आए। देश को पोलिया मुक्त बनाने के कार्यक्रम के प्रमुख राना मुहम्मद सफदर के मुताबिक- पोलियो वर्कर्स कोरोना महामारी की रोकथाम से जुड़े काम भी कर रहे थे। इसके बावजूद उन्हें हटा दिया गया। राना ने अरब न्यूज को दिए एक इंटरव्यू में यह बात कही।

डब्ल्यूएचओ की 20 जनवरी 2020 को जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया के सिर्फ तीन देशों में पोलियो के मामले सामने आ रहे हैं और ये बेहद गंभीर चिंता की बात है। पाकिस्तान के अलावा अफगानिस्तान और नाइजीरिया में पोलियो केस सामने आ रहे हैं।

फंडिंग में भी कटौती
पाकिस्तान पोलियो विभाग के प्रमुख सफदर के मुताबिक- सरकार ने देश में पोलियो निवारण से जुड़े काम करने के तरीकों में बदलाव किया है। इस काम के लिए दी जा रही फंडिंग में भी कटौती की गई है। हटाए गए पोलियो वर्कर्स में ज्यादातर महिलाएं हैं। ये सभी सिंध और खैबर पख्तूनख्वाह राज्य में सेवाएं दे रहे थे। इन दोनों राज्यों से ही पोलियो के नए मामले सामने आए हैं। सिंध में 21 और खैबर पख्तूनख्वाह में 22 पोलियो के मरीज मिले हैं।

अब हर दिन दिए जाते हैं वर्कर्स को पैसा

वकर्स की संख्या घटाने का फैसला पिछले साल इस्लामाबाद में हुआ एक रिव्यू मीटिंग में लिया गया था। इसमें प्रधानमंत्री के पूर्व स्वास्थ्य एडवाइजर जफर मिर्जा शामिल थे। इसमें जमीनी स्तर पर काम करने के तरीके बदलने का फैसला किया गया था। पहले वकर्स को 25 हजार रुपए हर महीने दिए जाते थे। अब वकर्स को सिर्फ 10 दिनों के लिए रखा जाता है और हर दिन के हिसाब से पेमेंट किया जाता है।

मार्च से नहीं पिलाई गई पोलियो की खुराक

इस साल अप्रैल में इमरान सरकार ने एक आदेश जारी किया था। इसमें पोलियो वैक्सीनेशन कम करने को कहा गया था। यह कदम आर्थिक किल्लत की वजह से उठाया गया था। पाकिस्तान में कोराना का पहला मामला 2 फरवरी को सामने आया था। इसके एक महीने बाद मामले बढ़े तो पोलियो ड्रॉप पर भी पाबंदी लगा दी गई।

पाकिस्तान से जुड़ी ये खबरें भी आप पढ़ सकते हैं …

1. सऊदी अरब की पाकिस्तान को दो टूक- अब न कर्ज देंगे और न ही पेट्रोल-डीजल; 6 अरब डॉलर के लोन की सिर्फ एक किश्त पाई गई इमरान सरकार

2. पाकिस्तान ने चीनी कंपनियों को सोना, यूरेनियम के खनन के लिए पट्ठे जारी किए, आंतरिक नियम और खुद के संविधान तक की धज्जियां उड़ाई।

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *