Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • पाकिस्तान पत्रकार मतिउल्लाह जान | इमरान खान शासन और सेना में पाकिस्तानी पत्रकार मतिउल्लाह जान हिट्स का अपहरण कर लिया।

इस्लामाबादएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

पाकिस्तान के पत्रकार मतीउल्लाह जेन मंगलवार को अगवा किए गए। 11 घंटे बाद रिहा हुआ। इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने पुलिस से कहा था- अगर जेन को कुछ हुआ तो आपको इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। विदेशी दूतावासों ने भी जेन की किडनैपिंग का मामला उठाया था। (फाइल फोटो)

  • मतीउल्लाह जेन को मंगलवार सुबह इस्लामाबाद के एक स्कूल से अगवा किया गया था
  • करीब 11 घंटे बाद उन्हें छोड़ दिया गया, किडनैपिंग की गूंज दुनिया के कई हिस्सों तक पहुंची

पाकिस्तान की राजधानी से मंगलवार को अगवा और 11 घंटे बाद रिहा किए गए पत्रकार मतीउल्लाह जेन ने बिना नाम लिए इमरान सरकार और फौज पर निशाना साधा। जेन के कहते हैं, उन्हें मुल्क के लोगों ने अगवा किया था, जो दानव के दुश्मन हैं। जो नहीं चाहते कि कोई आवाज उनकी गलत हरकतों के खिलाफ उठे।

जेन को मंगलवार सुबह इस्लामाबाद के एक सरकारी स्कूल के कैम्पस से अगवा किया गया था। जब बवाल हुआ तो दबाव में आकर किडनैपर्स ने 11 घंटे बाद उन्हें छोड़ दिया।

किडनैपर्स कौन थे, नहीं बताया गया
मतीउल्लाह साफ तौर पर दबाव में नजर आ रहे हैं। सुरक्षित रिलीज के दो दिन बाद भी उन्होंने अब तक किडनैपिंग को लेकर साफ तौर पर कुछ नहीं कहा है। कुछ इशारे जरूर किए जाते हैं, लेकिन किसी का नाम नहीं लिया गया। गुरुवार रात जेन ने कहा- मुझे किडनैप उन्हीं लोगों ने किया जो मुल्क में जम्मीता यानी लोकतंत्र नहीं चाहते। न वो कॉस्ट को मानते हैं और न ही संसद को। यह बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह पुलिस की वर्दी में हैं या फौज की। कपड़े तो बदले जा सकते हैं। लेकिन, ये सबको नजर में आता है कि ये लोग एकजुट हैं।

अंडर में जेन है
जेन ने फौज, आईएसआई, पुलिस या इमरान खान सरकार का नाम तो नहीं लिया, लेकिन उनका इशारा किस तरफ है? ये सब समझते हैं। अगवा किए जाने वाले दिन ही उन्हें सुप्रीम कोर्ट में गग्रेशन देनी थी। यह मामला सरकार के खिलाफ था। सुप्रीम कोर्ट और इमरान सरकार के बीच शुरुआत से ही संबंध खराब हो रहे हैं। लिहाजा, सरकार नहीं चाहती थी कि मतीउल्लाह गंगा के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे। उन्हें अगवा किया गया। हालाँकि, जेन किडनैपर्स को जानते हुए भी अगर चुप हैं तो यह साफ हो जाता है कि वे खासे दबाव में हैं।

इस मामले पर तवज्जो क्यों
जेन को अगवा और फिर रिहा क्यों किया गया? इसको लेकर अलग-अलग दावे हैं। लेकिन, दो पर ज्यादा फोकस है। पहला केस जस्टिस ईसा से जुड़ा है। उन्होंने राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से शिकायत में कहा था कि सुप्रीम कोर्ट की कुछ चीजों में लीक की जा रही हैं, उनकी छवि खराब की जा रही है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की जांच के बाद जेन को कोर्ट की अवमानना ​​का आरोपी बनाया। जस्टिस इस के कुछ फैसलों पर इमरान सरकार ने नाखुशी जाहिर की थी। जेन को इसी मामले में मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में गवाही के लिए पेश होना था।

सरकार और फौज से दुश्मनी
सोशल मीडिया पर इस तरह की खबरें हैं कि फौज और सरकार से जुड़ी कुछ खास बदलाव मतीउल्लाह के पास थे। किडनैपिंग के वक्त उन्होंने अपना मोबाइल फेंक दिया था। लेकिन, एक किडनैपर ने इसे फौरन उठा लिया। इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने होम सेक्रेटरी और तमाम आला अधिकारियों से कहा था- पत्रकार जल्द और सुरक्षित रिहा होना चाहिए। वरना आपको नतीजे भुगतेंगे।

पत्रकार की किडनैपिंग से जुड़ी ये खबर भी आप पढ़ सकते हैं …
पत्रकार भी महफूज नहीं: पाकिस्तान में घर से अगवावाद 12 घंटे बाद रिहा; किडनैप होने से पहले सरकार के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में गग्रेशन देनी थी

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *