Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • पाकिस्तान सिख | पाकिस्तान कोर्ट ने सिख लड़की जगजीत कौर को उसके मुस्लिम पति मोहम्मद हसन के साथ जाने की अनुमति दी

लाहौर31 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

हसन के साथ जगजीत (बाएं)। जगजीत के परिवार का आरोप है कि उनकी बेटी नाबालिग है। हसन ने उस पहले किडनैप किया और बाद में जबरन निकाह कर लिया। -फाइल फोटो

  • सिख परिवार के वकील ने कहा- स्कूल सर्टिफिकेट से साबित हो जाता है कि लड़की नाबालिग है
  • मुस्लिम पक्ष के वकील ने कहा- राष्ट्रीय डेटाबेस और पंजीकरण अथॉरिटी के अनुसार, लड़की की उम्र 19 वर्ष है

एक सिख लड़की से जबरन शादी करने के मामले में गुरुवार को पाकिस्तान के लाहौर हाईकोर्ट ने फैसला सुनाया। हाईकोर्ट ने कहा- लड़की पति के साथ कहीं भी जाने के लिए के लिए आजाद है। ननकाना साहिब की जगजीत कौर ने पिछले साल परिवार की मर्जी के खिलाफ मुस्लिम लड़के मोहम्मद हसन से शादी की। इस मामले को लेकर पिछले साल से ही दोनों समुदाय में काफी तनाव है। हाईकोर्ट के फैसले के बाद यह तनाव बहुत बढ़ गया।

सितंबर 2019 से जगजीत लाहौर के दारुल अमन (शेल्टर हाउस) में रह रही है। उसके परिवार का आरोप है कि हसन ने लड़की को अगवा करके जबरन शादी की थी। भारत ने इस मामले पर चिंता जाहिर करते हुए पाकिस्तान से तत्काल कार्रवाई की मांग की थी।

निर्णय से परिवार नाखुश

धर्म परिवर्तन के बाद जगजीत का मुस्लिम नाम आयशा रखा गया था। गुरुवार को कड़ी सुरक्षा के बीच पुलिस जगजीत को हाईकोर्ट लाई। यहां लड़की का भाई और परिवार के सदस्य मौजूद थे। उन्होंने फैसले पर नाराजगी जताई।

सिखाने के पक्ष के वकील ने क्या कहा

सिख परिवार के वकील खलील ताहिर सिंधु ने कहा- स्कूल सर्टिफिकेट यह साबित करने के लिए काफी है कि लड़की नाबालिग है। सिंधु ने कोर्ट को यह भी बताया कि पंजाब के गवर्नर मुहम्मद सरवर ने दोनों पक्षों के बीच समझौता कर दिया है। इसलिए, लड़की को उसके परिवार को सौंप दिया जाना चाहिए। अगर लड़की को हसन के साथ जाने दिया जाता है तो इससे सिख समुदाय की भावनाएं आहत होंगी।

मुस्लिम पक्ष ने क्या कहा

मुस्लिम पक्ष के वकील सुल्तान शेख ने कोर्ट को बताया- रिकॉर्ड के मुताबिक, लड़की की उम्र 19 साल है। एक मेडिकल बोर्ड ने पहले ही लड़की को बालिग करार दिया था।

जज ने सिंधु के तर्क को खारिज कर दिया

जज ने कहा- कॉन्स्ट कौर को पूरा अधिकार देता है कि वह अपना फैसला ले सके। अपने पसंद के व्यक्ति के साथ रहना संभव है। कोर्ट ने दहेज की राशि 50 हजार से बढ़ाकर 1 लाख रु। करने का निर्देश दिया। जगजीत की हिफाजत के आदेश भी दिए।

ननकाना में पुलिस की समीक्षा

कोर्ट के फैसले के बाद ननकाना साहिब में पढ़ाएं और मुस्लिम समुदायों के बीच तनाव बढ़ गया है। अधिकारियों ने कहा- ननकाना पुलिस को खोजने पर रहने को कहा गया है।

ये भी पढ़ें

जबरन धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर की जाने वाली सिख लड़की ने घर जाने से इनकार किया: अधिकारी

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *