Share this


कराची29 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

फोटो 2012 की है। तब कराची में एक मंदिर तोड़ा गया था। इसमें मौजूद प्रतिमाएं खुली में मिली थीं। हिंदू समुदाय ने उन्हें अस्थायी टेंट में रखा था।

  • प्राचीन मंदिर कराची के लायरी में था, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक- इसका निर्माण बंटवारे के पहले हुआ था
  • यहां एक बिल्डर कॉलोनी बना रहा है, मंदिर के आसपास 20 हिंदू परिवार रहते थे, उनके घर भी तोड़े गए

पाकिस्तान में आजादी के पहले बने एक हनुमान मंदिर को तोड़ दिया गया। इस मंदिर के आसपास लगभग 20 हिंदू परिवार रहते थे। उनके मकान भी तोड़ दिए गए हैं। यहां एक बिल्डर कॉलोनी बना रहा है। आरोप है कि स्थानीय प्रशासन ने उसकी मदद की है। मंदिर में मौजूद मूर्तियां भी गायब कर दी गई हैं। पाकिस्तान सरकार की तरफ से अब तक इस बारे में कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है।

पांच दिन बाद घटना का पता चला
मंदिर के पुजारी का आरोप है कि लगभग 6 महीने पहले कराची के बाहरी इलाके लायरी की जमीन एक बिल्डर ने खरीदी थी। वह यहाँ कॉलोनी बनाना चाहता है। इस क्षेत्र में 20 हिंदू परिवार भी रहते हैं। पास ही एक प्राचीन हनुमान मंदिर भी है। महामारी के चलते इसे कुछ महीने पहले बंद कर दिया गया था। ‘द ट्रिब्यून’ के पेपर के अनुसार, मंदिर में सोमवार रात तोड़ा गया था। इसकी जानकारी शुक्रवार रात सामने आई।

दिखावे के लिए पहुंची पुलिस
घटना की जानकारी मिलने पर हिंदू परिवार जमा हो गए। इसी दौरान पुलिस वहां पहुंची। उन्होंने पूरा एरिया सील कर दिया। मंदिर मलबे में तब्दील हो गया था। कमिश्नर अब्दुल करीम मेमन ने कहा- मामले की जांच की जा रही है। विशेष बात यह है कि उस क्षेत्र में रहने वाली बलोच कम्युनिटी भी मंदिर तोड़े जाने का विरोध कर रही है। बलोच नेता इरशाद बलोच ने कहा- हम बहुत दुखी हैं। बचपन से इस मंदिर को देख रहे थे। यह हमारी विरासत का प्रतीक था।

बिल्डर ने किया था धोखा
स्थानीय नागरिक हीरा लाल ने कहा- बिल्डर ने हमें धोखा दिया है। उन्होंने वादा किया था कि मंदिर को कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा। मंदिर के पुजारा हरसी ने रोते हुए कहा- पहले हमारे घर उजाड़े। अब मंदिर भी तोड़ दिया गया। नहीं ये नहीं बताया गया कि हनुमानलला की मूर्तियां कहां हैं? घटना के बाद इलाके में तनाव है। हिंदू समुदाय के नेता मोहन लाल ने कहा- इतना सब होने के बावजूद हमारे साथ इलाका छोड़ने की सजा दे रहा है। पुलिस और प्रशासन चुप है।]

पाकिस्तान में मंदिर से जुड़ी ये खबर भी आप पढ़ सकते हैं …

1. इमरान ने मंदिर बनाने के लिए 10 करोड़ दिए थे, धार्मिक संस्था का सवाल- जनता के पैसे से गैर-मुस्लिमों के लिए मंदिर क्यों?
2. बंटवारे के समय पाक में 428 मंदिर थे, उनमें से 408 दुकान या दफ्तर बन गए; हर साल हजार से ज्यादा लड़कियां इस्लाम कबूलें को मजबूर करती हैं

0





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *