Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • डाक सेवा विधेयक, रिपब्लिकन के विरोध के बावजूद अमेरिका के प्रतिनिधि सभा में पारित हुआ, यह विभाग के लिए 18 लाख करोड़ का फंड देने का प्रस्ताव

वॉशिंगटन33 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

अमेरिकी की डेमोक्रेट पार्टी ने देश के डाक डिपार्टमेंट को बचाने के बारे में लोगों को बताने के लिए मुहिम चला रही है। शुक्रवार को रॉबर्ट की सड़कों से गुजरती इस मुहिम के लिए इस्तेमाल की जा रही एक गाड़ी।

  • हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव के 435 सदस्यों में से 257 सदस्यों ने बिल का समर्थन किया, अब इसे वोटिंग के लिए सीनेट में भेजा जाएगा
  • ट्रम्प ने कहा है कि वे हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव में पारित इस बिल पर किन नहीं करेंगे, इसके खिलाफ वीटो पावर भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

अमेरिकी संसद के निचले सदन हाउस में रिप्रेजेंटेटिव में पोस्टल सर्विस बिल शनिवार को पास हो गए हैं। इसमें डाक डिपार्टमेंट को मेल करें कि बैजल को जल्द ही लोगों तक पहुंचाने के लिए 25 बिलियन डॉलर (लगभग 18 लाख करोड़ रुपये) की फंडिंग देने का प्रस्ताव रखा गया है। रिपब्लिकन पार्टी के सांसदों ने इसका विरोध किया। इसके बावजूद हाउस के 435 सदस्यों में से 257 सदस्यों ने इसका समर्थन किया और यह बहुमत से पारित हो गया। हाउस की स्पीकर नैंसी पेलोसी ने कहा कि यह बिल लाना जरूरी था क्योंकि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प मेल इन बैजल से चुनाव कराने में अड़ंगा डालने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने पोस्ट किया जनरल जनरल लुस डिजॉय के साथ मिलकर इस तरह की कोशिश कर रहे हैं कि राष्ट्रपति चुनाव से जुड़े मेल इन बैलों के सही समय से लोगों तक पहुंच नहीं पाए।

अब सीनेट में इस बिल पर मतदान होगा
इस बिल पर अब सीनेट यानी अमेरिकी संसद के ऊपरी सदन में मतदान होगा। यहाँ पर रिपब्लिकन सांसद बहुमत में हैं। यदि यह सिनेट में पारित हो जाता है तो यह मंजूरी के लिए राष्ट्रपति ट्रम्प के पास भेजा जाएगा। वहीं ट्रम्प ने कहा है कि स्पीकर पेलोसी की ओर से लाए गए इस विधेयक को कानून बनाने की मंजूरी नहीं देंगे। व्हाइट हाउस ने यह भी कहा है कि इस विधेयक पर ट्रम्प को अपने वीटो पावर का इस्तेमाल करने के लिए कहा जा सकता है। अमेरिका के कॉन्स के मुताबिक, बिना राष्ट्रपति के साइन किए किसी भी बिल को मंजूरी नहीं दी जा सकती है।

डाक सेवा की फंडिंग में कटौती हो रही है: डेमोक्रेट्स

विपक्षी पार्टी डेमोक्रेट्स ने आरोप लगाया है कि ट्रम्प के करीबी माने जाने वाले पोस्टमास्टर जनरल लुइस डिजॉय ने डाक सेवा के काम करने के तरीके को बदल दिया है। वे ट्रम्प की शह पर विभाग को दी जा रही फंडिंग कम कर रहे हैं। उन्होंने डाक छांटने के लिए इस्तेमाल में लाने वाली सैकंडों मशीनों को हटाने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही वे और भी मशीनों को हटाने की योजना बना रहे हैं। पोस्टमास्टर जनरल ने भी शुक्रवार को माना था कि पहले की तुलना में पोस्ट डेल से पहुंच रहे हैं, लेकिन ऐसा कोरोना महामारी की वजह से हो रहा है। हालांकि उन्होंने हटाई गई मशीनों को फिर से लागू करने से साफ इनकार कर दिया।

ट्रम्प पर पोस्टल फंडिंग रोकने के लिए केस भी हो चुका है

हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव के लिए डेमोक्रेट पार्टी के उम्मीदवार सहित कई लोगों ने राष्ट्रपति ट्रम्प और पोस्टमास्टर जनरल के डाक फंडिंग रोकने के आरोप में मुकदमा भी दर्ज करा चुके हैं ।17 अगस्त को मैनहट्टन फेडरल कोर्ट में मुकदमा दायर किया गया था। केस करने वालों ने कोर्ट से गुहार लगाई थी कि नो से पहले डिपार्टमेंट को पर्याप्त फंडिंग देने के लिए कहा जाए।

ट्रम्प ने मेल-इन बैलेट का विरोध किया

ट्रम्प ने कुछ दिन पहले मेल-इन बैलेट्स को धोखा बताया था। उन्होंने कहा कि डेमोक्रेट्स 2020 के चुनावों में धोखेबाजी करना चाहते हैं। 22 जून को उन्होंने एक ट्वीट किया था। इसमें कहा गया था कि दूसरे देशों से लाखों लोग मेल-इन बैलेट भेजेंगे। हालांकि, बाद में वे अपनी इस बात से पलट गए थे। कोरोनावायरस को देखते हुए अमेरिका के चुनावों में मेल-इन बैलेट की मांग हो रही है। डेमोक्रेटिक पार्टी के साथ ही ट्रम्प की रिपब्लिकन पार्टी के सदस्य भी इसके पक्ष में हैं।

आप ये खबरें भी पढ़ सकते हैं:

1। व्हाइट हाउस ने कहा- 3 नवंबर को ही चुनाव होंगे, लेकिन मेल-इन बैलेट से 100% वोटिंग हुई तो एक जनवरी तक नतीजे दे देंगे मुश्किल

2। डेमोक्रेटिक उम्मीदवार बिडेन बोले- ट्रम्प चुनाव में धांधली करवा सकते हैं, अगर हरे तो भी आसानी से कार्यालय नहीं छोड़ेंगे।

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *