Share this


स्टॉकहोम34 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

जेनी मसबर्ग ने कहा- यह मील का पत्थर पार करने जैसा है। लेकिन भेदभाव दूर नहीं हुआ। अभी भी महिला पादरी का वेतन लगभग 18 हजार रुपये कम है।

  • देश में कुल 3060 पुजारी सेवा दे रहे हैं
  • इनमें 1533 यानी करीब 50.1% महिलाएं हैं

स्वीडन चर्च के इतिहास में पहली बार पुरुष पुजारियों की तुलना में महिला पुजारी ज्यादा हो गई हैं। स्वीडन चर्च ने यह जानकारी दी है। देश में कुल 3060 पुजारी सेवा दे रहे हैं। इनमें 1533 यानी करीब 50.1% महिलाएं हैं। स्वीडन चर्च की सेक्रेटरी क्रिस्टीना ग्रेनहोम के मुताबिक, यह ऐतिहासिक है।

हमने अनुमान लगाया था कि पुरुषों को पीछे छोड़ने का काम 2090 तक होगा, पर यह परिवर्तन बहुत तेजी से हुआ है। कैथोलिक चर्च के विपरीत स्वीडन में लूथरन चर्च ने महिलाओं को पूजा-प्रार्थना प्रदान करने की अनुमति 1958 में दी थी।

महिलाओं को धर्म से जुड़े पाठ्यक्रमों में बहुत महत्व दिया गया

1960 में पहली बार तीन महिलाओं ने यह जिम्मेदारी संभाली थी। इसके बाद 1982 में स्वीडन की संसद ने उस विशेष खंड को भी निरस्त कर दिया था, जिसमें पुरुष पुजारी को महिला को सहयोग देने से इनकार करने का अधिकार था। वर्ष 2000 में चर्चों को राज्य से अलग करने के बाद महिलाओं को धर्म से जुड़े पाठ्यक्रमों में बहुत महत्व दिया गया।

भगवान की सेवा में कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए

ग्रेनहोम ने बताया कि रविवार की सेवा के दौरान हम पुरुष और महिला प्रीस्ट को समान मौके देते हैं। इससे भी आत्मविश्वास बढ़ता है। वैसे भी हम इस बात को मानते हैं कि भगवान ने महिला-पुरुष दोनों को बनाया है। तो फिर भगवान की सेवा में कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए। और ऐसा दिखना भी चाहिए।

जेनी नैनबर्ग ने कहा- मील का पत्थर पार किया, फिर भी भेदभाव दूर नहीं हुआ
स्वीडन चर्च में भले ही महिला प्रीस्ट की संख्या पुरुषों से ज्यादा हो गई है, पर उनके साथ भेदभाव जारी है। पुरुष प्रीस्ट की तुलना में उनकी तनख्वाह 18 हजार रुपए तक कम है।

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *