Share this


इस्लामाबाद23 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

फोटो मंगलवार देर रात पत्रकार मतीउल्लाह जेन (बीच में) की रिहाई के बाद की है। जयं ओर उनके भाई आफताब और बाईं ओर दोस्त काशीफ बताए गए हैं।

  • पत्रकार का नाम मतीउल्लाह जेन है, उन्हें मंगलवार को एक सरकारी स्कूल के बाहर से अगवा किया गया था
  • लगभग 10 लोगों ने जेन को अगवा किया, कुछ फौजी वर्दी वाले और कुछ सिविल में थे, बिल्कुल सटीक आईएसआई

मंगलवार सुबह अगवा किए गए पाकिस्तानी पत्रकार मतीउल्लाह जेन देर रात सुरक्षित घर लौट आए। अब तक यह साफ नहीं हो पाया कि जेन को किसने और क्यों उसडनैप किया था, और फिर किन शर्तों पर उन्हें रिहा किया गया था। मतीउल्लाह की किडनैपिंग से बवाल हो गया था। कुछ विदेशी डिप्लोमैट्स ने भी उनकी फौरन सुरक्षित रिलीज की मांग की थी। कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया है कि अगवा किए जाने वाले दिन ही जेन को सुप्रीम कोर्ट में एक अहम गवाही देनी थी। यह मामला इमरान खान सरकार के खिलाफ चल रहा है।

कैसे हुआ था अपहरण
मंगलवार सुबह करीब 9 बजे मतीउल्लाह इस्लामाबाद के एक सरकारी स्कूल पहुंचे। यहां लगभग 10 लोग अचानक उन पर हमला बोल देते हैं। इनमें से कुछ फौजी वर्दी तो कुछ सिविल ड्रेस में थे। जेन को एक ब्लैक कार में डालकर ये लोग गायब हो जाते हैं। स्कूल के गेट पर लगे सीसीटीवी फुटेज में घटना कैद हो जाती है। हालाँकि, फुटेज बहुत साफ नहीं थे।

सरकार में
जेन के अगवा होने की खबर के साथ ही हर तरफ विरोध होना शुरू होना है। न्यायपालिका और राजनीति तो अपनी जगह कनाडा के एम्बेसडर तक ट्वीट करते हैं। सरकार के अधीन वृद्धि बढ़ जाती है। दबे सुरों में ही सही, लेकिन यह सेना और आईएसआई की योजना को बताया जाता है।

जेन पर तवज्जो क्यों
इसको लेकर अलग-अलग दावे हैं। लेकिन, दो पर ज्यादा फोकस है। पहला केस जस्टिस ईसा से जुड़ा है। उन्होंने राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से शिकायत में कहा था कि सुप्रीम कोर्ट की कुछ महत्वपूर्ण बातें लीक की जा रही हैं और उनकी छवि खराब की जा रही है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की जांच के बाद जेन को कोर्ट की अवमानना ​​का आरोपी बनाया। जस्टिस इस के कुछ फैसलों पर इमरान सरकार ने नाखुशी जाहिर की थी। जेन को इसी मामले में मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में गवाही के लिए पेश होना था।

सरकार और फौज से दुश्मनी
सोशल मीडिया पर इस तरह की खबरें हैं कि फौज और सरकार से जुड़ी कुछ खास बदलाव मतीउल्लाह के पास थे। किडनैपिंग के वक्त उन्होंने अपना मोबाइल फेंक दिया था। लेकिन, एक किडनैपर ने इसे फौरन उठा लिया। इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने होम सेक्रेटरी और तमाम आला अधिकारियों से कहा था- पत्रकार जल्द और सुरक्षित रिहा होना चाहिए। वरना आपको नतीजे भुगतेंगे।

हर जगह विरोध
विपक्षी नेता बिलावल भुट्टो जरदारी ने जेन के जल्द रिलीज की मांग की। संसद में मामला उठा। विपक्षी सांसद शेरी रहमान ने कहा- सरकार बताए कि जेन को किसने, क्यों और किसके कहने पर अगवा किया। वो ऐसे क्या राज जानती हैं? इमरान सरकार चुप रही। शहबाज शरीफ ने कहा था- अगर जेन को कुछ हुआ तो प्रधानमंत्री इमरान खान जिम्मेदार होंगे। इमरान के घोर विरोधी मौलान फाल-उर-रहमान ने कहा- यह सरकार के इशारे पर हुआ। कनाडा और जर्मनी के राजदूतों ने भी ट्वीट किया।

फिर, वेबकैम रिलीज
जियो न्यूज के मुताबिक, मंगलवार रात 11 बजे जेन को इस्लामाबाद के सुनसान इलाके फतेह जंग में छोड़ दिया गया। उनका फोन वापस नहीं किया गया है। यहाँ से वह घर आ गया। अब तक उन्होंने यह नहीं बताया कि उन्हें किन लोगों ने कहा था और क्यों अगवा किया था। मुल्क के नामी टीवी एंकर मीर मो। अली खान ने कहा- आईएसआई के खिलाफ आवाज उठाने का खामियाजा मतीउल्लाह को भुगतना पड़ा। जर्मन वेबसाइट और रेडियो डॉयचे वेले ने कहा- जेन ने सरकार और फौज के खिलाफ आवाज उठाई थी। इसलिए, उन्हें अगवा किया गया। बुधवार को जेन ने रिलीज के लिए किए गए प्रयासों और समर्थन के लिए कई लोगों का शुक्रिया अदा किया।

0





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *