Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • ट्रम्प ने कहा कि मैं भारत और चीन के लोगों से प्यार करता हूं, मैं दोनों देशों में शांति बनाने के लिए अपनी पूरी कोशिश करूंगा

वॉशिंगटन9 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड्र ट्रम्प गुरुवार को व्हाइट हाउस के साउथ लॉन में एक कार्यक्रम में शामिल हुए। उन्होंने कहा कि भारत और चीन के बीच अमन कायम होना चाहिए।

  • ट्रम्प पहले भारत और चीन के बीच सुलह बनाने की पेशकश कर चुके हैं, हालांकि दोनों देशों ने उनका प्रस्ताव ठुकरा दिया था
  • ट्रम्प के इकोनॉमिक एडवाइजर लैरी कुडलोव ने कहा- चीन से बाहर निकलना चाह रही कंपनियों के लिए भारत सरकार का वैकल्पिक विकल्प

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के मुताबिक, अमेरिका चाहता है कि भारत और चीन के बीच तनाव कम हो और राहत सामान्य हो। व्हाइट हाउस की प्रेस सेक्रेटरी कायली मैकनेनी ने गुरुवार को एक सवाल के जवाब में यह बात कही। मैकनेनी के मुताबिक, राष्ट्रपति ट्रम्प ने कहा है कि वे भारत और चीन के लोगों से प्यार करते हैं। दोनों देशों के लोगों के बीच शांति समझौते के लिए वे हर संभव कोशिश करना चाहते हैं।

भारत और चीन के बीच लद्दाख में सीमा विवाद होने के बाद ट्रम्प भारत और चीन के बीच ऋणता करने की पेशकश कर चुके हैं। हालांकि, दोनों देश आपस में बातचीत कर इस मसले को सुलझाने की कोशिश कर चुके हैं।

भारत-अमेरिका अच्छा पार्टनर: पोम्पियो
अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने बुधवार को कहा था कि भारत-अमेरिका अच्छे पार्टनर हैं। पोम्पियो ने कहा, “भारत के विदेश मंत्री के साथ मेरे अच्छे प्रतिनिधि हैं। हम कई मुद्दों पर लगातार बात करते हैं। हमारे बीच चीन के साथ उनकी सीमा विवाद को लेकर भी बात हुई है। हाल ही में भारत ने चीन के 59 ऐप पर अपने देश में बैन लगाए हैं। यह एक अच्छा कदम था। दुनिया चीन से आने वाले कुछ को लेकर सतर्कता है। लोकतांत्रिक देश इसकी पूरी ताकत के साथ जवाब देंगे।]

भारत-चीन का बड़ा प्रतिस्पर्धी बन रहा है
दूसरी ओर, ट्रम्प के इकोनॉमिक एड्वेजर लैरी कुडलोव ने गुरुवार को व्हाइट हाउस में एक कार्यक्रम में कहा- भारत चीन का बड़ा प्रतिस्पर्धी बन रहा है। वह उसे टक्कर दे रहा है। चीन को लेकर लोगों में भरोसा कम हुआ है। भारत ने काउंटी टैक्स कम कर दिया है। वे अमेरिका के सहयोगी भी हैं। ऐसे में भारत इन्वेस्टमेंट के लिए अच्छी जगह बन गया है। महामारी फैलने के बाद कई अमेरिकी कंपनियों चीन से बाहर निकलना चाह रही हैं। उनके लिए भारत बेहतर विकल्प हो सकता है।

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *