Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • अमेरिका दक्षिण चीन सागर | दक्षिण चीन सागर में हैनान द्वीप पर एक भूमिगत बेस का उपयोग करते हुए चीनी पनडुब्बी की सैटेलाइट तस्वीरें

बीजिंग19 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

रेडियो फ्री एशिया (सीपीपी) ने अपने ट्विटर अकाउंट से 18 अगस्त को युलिन नेवल बेस की यह फोटो ट्वीट की थी। इसमें चीनी पनडुब्बी तहखाने के सामने नजर आ रही है।

  • सामने आई टेक्नोलॉजीज इमेज में युलिन नेवल बेस पर एक चीनी पनडुब्बी तहखाने की ओर बढ़ती नजर आ रही है, इसके आसपास दो चीनी बर्तन भी नजर आ रहे हैं।
  • युलिन नेवल बेस के छवि में चीन के टाइप 093 पनडुब्बी होने का अंदाजा लगाया जा रहा है, चीन की ऐसी कुछ पनडुब्बियां एटमी हथियारों से लैस हैँ।

चीन दक्षिण चीन सागर में अपना सैन्य दबदबा गुपचुप तरीके से बढ़ाने की कोशिशों में जुटा है। इसके लिए चीन ने हसनान इलैंड स्थित अपने युलिन नेवल बेस पर एक ऐसा तहखाना तैयार किया है जिसमें पनडुब्बियों को भी छुपाया जा सकता है। अमेरिकन शेयरिंग कंपनी प्लेनेट लैब्स की ओर से जारी कुछ इलेक्ट्रॉनिक्स इमेजेस से इसकी यह कारगुजारी उजागर हुई है। इस फोटो को सबसे पहले 18 अगस्त को रेडियो फ्री एशिया (एनपी) ने अपने ट्विटर अकाउंट से पोस्ट किया था।

सामने आई छवि में युलिन नेवल बेस पर एक चीनी पनडुब्बी तहखाने की ओर बढ़ती नज़र आ रही है। इसके आसपास के दो चीनी बर्तन भी नजर आ रहे हैं। इसके टाइप 093 पनडुब्बी होने का अंदाजा लगाया जा रहा है। 093 पनडुब्बियां तीन तरीके की होती हैं। चीन के पास एटमी बंदूकें, टोर्पेडो और मिसाइलों से लैस ऐसे कई पनडुब्बियां हैं।

पनडुब्बियों को तहखाने में छुपाने की यह फोटो
रक्षा विशेषज्ञों के मुताबिक, पहले भी ऐसी खबरें आ चुकी हैं कि चीन अपने मिसाइलों और हथियारों को तहखाने में छुपाकर रखता है। हालांकि, चीनी पनडुब्बियों को तहखाने में छिपाने की फोटो पहली बार सामने आई है। ऐसा फोटो लेना मुश्किल है। ऐसा सिर्फ तब मुमकिन है जब पनडुब्बी को तहखाने में छुपाने से पहले कोई कॉमर्शियल होटल ठीक उसके ऊपर मौजूद हो। फोटो स्पष्ट है जिससे पता चलता है कि जिस समय यह कैमरा के कैमरे में कैद हुआ उस समय आसमान साफ ​​होगा।

अब युलिन बेस पर नजर रखना मुश्किल होगा

चीन का युलिन नेवल बेस हॉन्कॉन्ग से लगभग 470 किमी। दक्षिण पश्चिम में है। इसे हैनान आइलैंड के दक्षिण किनारे पर बनाया गया है। चीन हमेशा किसी भी स्थिति से निपटने के लिए अपने पोतों को यहां तैनात रखता है। चीन के इस नेवल बेस पर अमेरिका की भी नजर होती है। सीएनएन न्यूज के मुताबिक, अमेरिका नौसेना की खुफिया इकाई साल में एक बार इस आइलैंड के पास अपने जेट की है, जिससे चीन की हरकतों का पता चलता रहा है। हालांकि, अब तहखाना तैयार करने के बाद चीन आसानी से अपने जहाजों और पनडुब्बियों को इनमें छिपा सकता है। ऐसे में चीन वहां क्या कर रहा है इसका अंदाजा लगाना मुश्किल होगा।

दक्षिण चीन सागर में अमेरिका और चीन के बीच तनाव रहा है

दक्षिण चीन सागर में अमेरिका और चीन के बीच पिछले कुछ वर्षों में कई बार तनाव की स्थिति पैदा हुई है। इस साल 6 अप्रैल को चीन और अमेरिका के हिस्से में 100 मीटर की दूरी पर आमने सामने आए थे। अक्टूबर 2018 में भी एक चीनी बर्तन अमेरिकी वॉरशिप के 41 मीटर लगभग पहुंच गया था। जून 2018 में अमेरिका के विमानों ने दक्षिण चीन सागर में उड़ान भरी थी, इस पर चीन ने आपत्ति जताई थी। दक्षिण चीन सागर एक विवादित समुद्री क्षेत्र है। चीन, वियतनाम, चिलीज और ताइवान इसके अपने हिस्से होने का दावा करते हैं। वर्तमान में यह चीन के कब्जे में है।

आप चीन से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ सकते हैं …

1 है। चीन करवा रहा जासूसी: अमेरिका में अमेरिका के पूर्व अधिकारी को गिरफ्तार, एजेंसी के ऑपरेशन और काम करने के तौर-तरीके चीन को बता दिया गया था

२। चीन ने शिनज और इन मस्जिद तोड़कर सार्वजनिक टॉयलेट बनाया; यहां के अतुश सुथग गांव में 3 मस्जिदें थीं, 2 जिनपिंग सरकार ने गिराईं

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *