Share this


  • हिंदी समाचार
  • सुखी जीवन
  • व्लादिमीर पुतिन रूस कोरोनावायरस COVID 19 वैक्सीन पर; आप सभी जानना चाहते हैं कि रूसी राष्ट्रपति क्या कहते हैं

4 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट
  • वैक्सीन को तय योजना के अनुसार रूस की रिसुलेटरी बॉडी का अप्रूवल मिल गया है
  • रूस ने महीने भर पहले ही संकेत दे दिए थे कि उनकी वैक्सीन ट्रायल में सबसे आगे है

दुनिया के तमाम देशों को पीछे छोड़ते हुए रूस ने कोरोनावायरस वैक्सीन बनाने में बाजी मार ली है। मंगलवार को रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने की घोषणा की, ोना हमने कोरोना की सुरक्षित वैक्सीन बना ली है और देश में रेजर्ड भी करा लिया है। मैंने अपनी बेटियों को एक बेटी में पहली वैक्सीन लगवाई है और वह अच्छा महसूस कर रही है। ”

रूसी अधिकारियों के मुताबिक, गाम-कोविद-वेक लियो नाम की इस वैक्सीन को तय योजना के मुताबिक रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय और रिजुलेटरी बॉडी का अप्रूवल मिल गया है।

सितंबर में उत्पादन, अक्टूबर से लगने लगेगी

दुनिया की पहली यह पहली वैक्सीन को रक्षा मंत्रालय और गामालेया नेशनल सेंटर फॉर रिसर्च ऑन एपिडिम सेंचुरी और माइक्रोबायलॉजी ने मिलकर तैयार किया है। सितंबर से इसका उत्पादन करने और अक्टूबर से लोगों को लगाने की तैयारी शुरू हो गई है।

रूस ने महीने भर पहले ही इस बात के संकेत दे दिए थे कि उनकी वैक्सीन ट्रायल में सबसे आगे है और वे उससे 10 से 12 अगस्त के बीच रेगर्ड करा लेंगे। हालांकि इस वैक्सीन को लेकर अमेरिका और ब्रिटेन रूस पर निर्भर नहीं कर रहे हैं। रूस पर वैक्सीन का फार्मूला चुराने के आरोप भी लग रहे हैं।

रमन ने कहा- सभी जरूरी ट्रायल पूरे किए

रूसी न्यूज एजेंसी तास के मुताबिक, मंगलवार को देश के शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक में राष्ट्रपति पुतिन ने कहा, ‘जहां तक ​​मुझे पता है, आज सुबह दुनिया में पहली बार कोरोनोवायरस संक्रमण से बचाव का एक वैक्सीन रजिस्टर्ड कर ली गई है।’ पुतिन ने स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको से इस बारे में विस्तृत जानकारी देने को कहा है। मुराशको ने बताया, जानकारी मुझे जानकारी दी गई है कि हमारी वैक्सीन प्रभावी तरीके से काम करती है और एक अच्छी इम्यूनिटी पैदा करती है। मैं दोहराता हूं कि इसके लिए सभी जरूरी ट्रायल पूरे कर लिए गए हैं।

बड़े स्तर पर तीन और ट्रायल इसी महीने होंगे

  • रूस के रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, वैक्सीन ट्रायल के परिणाम सामने हैं। उनमें बेहतर इम्युनिटी विकसित होने के प्रमाण मिले हैं। दावा किया गया कि किसी भी वॉलंटियर्स को निगेटिव साइड-इफेक्ट देखने में नहीं आया।
  • रूस ने दावा किया है कि उसने कोरोना की जो वैक्सीन तैयार की है वह क्लेिकल ट्रायल में 100% तक सफल रही है। ट्रायल की रिपोर्ट के मुताबिक, जिन वॉलंटियर्स को वैक्सीन दी गई उनमें वायरस के खिलाफ इम्युनिटी विकसित हुई है।

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *